तीर कमान से फोड़ दी बच्चे की आंख, पीड़ित परिवार ने एसपी से मिलकर लगाई न्याय की गुहार

राजेश का कहना है कि बेटे की आवाज सुनकर परिवार को लोग उसकी तरफ दौड़कर आए, तभी राकेश के बेटे ने दूसरा तीर छोड़ा जो कि रजत की आंख में लगा। काफी इलाज के बावजूद रजत की दाहिनी आंख ठीक नहीं हो सकी।

By: एबीपी गंगा | Updated: 14 Jun 2019 06:56 PM
The parents of the victim met the SP in the case of eye blinking of his son

रायबरेली, एबीपी गंगा। शिवगढ़ के शिवली चौराहे के निकट तीन माह पूर्व बालक की आंख फोड़ने के प्रकरण में पीड़ित के माता-पिता गुरुवार को एसपी से मिले। उन्होंने स्थानीय पुलिस पर आरोपियों का पक्ष लेने का आरोप लगाया। साथ ही कठोर कानूनी कार्रवाई की गुहार लगाई।


पहला तीर पैर में लगा


शिवली चौराहा निवासी डॉ. राजेश सिंह के मुताबिक 18 मार्च को उनका बेटा रजत सिंह घर पर ही पढ़ाई कर रहा था। तभी पड़ोस के राकेश मिश्र और उनकी पत्नी रंजना मिश्रा ने रंजिशन अपने बेटे को तीर कमान पकड़ा दी। उन दोनों के कहने पर उनके बेटे ने रजत पर तीर से हमला किया। पहला तीर रजत के पैर में लगा तो वह रोने लगा।


आंख में लगा तीर


राजेश का कहना है कि बेटे की आवाज सुनकर परिवार को लोग उसकी तरफ दौड़कर आए, तभी राकेश के बेटे ने दूसरा तीर छोड़ा जो कि रजत की आंख में लगा। काफी इलाज के बावजूद रजत की दाहिनी आंख ठीक नहीं हो सकी। उधर, तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया, लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं कर रही है।