इस अनूठे मंदिर में लगती है भोलेनाथ की अदालत, जानें क्यों कान पकड़कर उठक-बैठक लगाते हैं भक्त

एबीपी गंगा सावन स्पेशल सीरीज में आज हम आपको प्रयागराज के अनूठे मंदिर 'शिव कचहरी' मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां भोलेनाथ न्यायाधीश के रूप में विराजमान होकर अपने भक्तों को दर्शन देते हैं और उनके कर्मों पर निर्णय व न्याय करते हैं।

By: एबीपी गंगा | Updated: 24 Jul 2019 12:25 PM
Sawan Special Know about prayagraj unique shiv kachahari temple
प्रयागराज, मोहम्मद मोईन। संगम नगरी प्रयागराज में भगवान भोलेनाथ का एक ऐसा अनूठा मंदिर है, जहां वह न्यायाधीश के रूप में विराजमान होकर अपने भक्तों को दर्शन देते हैं और उनके कर्मों पर निर्णय व न्याय करते हैं। भोलेबाबा का यह अनूठा मंदिर 'शिव कचहरी' के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर में एक- दो नहीं, बल्कि 286 शिवलिंग हैं। इनमें एक शिवलिंग न्यायाधीश के रूप में, तो बाकी वकील के रूप में हैं। शिव कचहरी मंदिर में भोलेबाबा के भक्त जाने-अनजाने में हुईं गलतियों की माफी मांगने व उसका प्रायश्चित करने के लिए आते हैं। कोई चिट्ठी लिखकर अर्जी लगाता है, तो कोई शब्दों के जरिये। कोई कान पकड़कर अपनी गलती के लिए क्षमा मांगता है, तो कोई उठक -बैठक कर।



कुंभ नगरी प्रयागराज में संगम के नजदीक गंगा नदी के तट पर स्थित है 'शिव कचहरी मंदिर'। इस अनूठे मंदिर में भोले भंडारी के दरबार में उनके भक्त अपनी गलतियों की माफी मांगने और उसका प्रायश्चित करने के लिए आते हैं। कोई चिट्ठी  लिखकर अपनी अर्जी छोड़ जाता है तो कोई यहां स्थित शिवलिंगों से सटकर धीमी आवाज में शब्दों के जरिये अपनी हाजिरी लगाता है।



तमाम भक्त इसी तरह कान पकड़कर जाने-अनजाने में हुए पापों से मुक्ति पाने की गुहार लगाते हैं, तो बहुत से लोग भोले बाबा के सामने कान पकड़कर उठक - बैठक करने में भी नहीं हिचकते। कोई अपने कान पकड़कर पांच बार उठक -बैठक करता है, तो कोई सात -ग्यारह या इक्कीस बार।



दरअसल मान्यता है कि शिव कचहरी मंदिर भोले भंडारी की अदालत होती है और यहां वह खुद न्यायाधीश यानी जज के रूप में विराजमान हैं। भोलेनाथ इस अनूठी कचहरी में जज के रूप में जरूर रहते हैं, लेकिन वह भगवान हैं और दयालु भी हैं, लिहाजा गलती मान लेने वाले और उसका प्रयाश्चित करने वाले अपने भक्तों को न सिर्फ माफ़ कर देते हैं, बल्कि उन पर अपनी कृपा बरसाते हुए उनका कल्याण भी करते हैं।



भक्तों को इसका विश्वास भी रहता है और इसीलिए वह पूरी आस्था के साथ शिव कचहरी मंदिर में अपनी गलतियों की माफी और भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद पाने के लिए आते हैं। इसी वजह से कान पकड़कर माफी मांगते, शिवलिंगों से सटकर शब्दों के जरिए हाजिरी व अर्जी लगाने और कान पकड़कर उठक -बैठक करने की तस्वीरें इस अनूठे शिव मंदिर में पूरे दिन ही देखने को मिलती रहती हैं। यहां आने वाले भक्तों का यही मानना है कि शिव कचहरी में आकर जाने -अंजाने में हुई गलतियों की माफी मांगने से न सिर्फ मन में बसा अपराध बोध ख़त्म हो जाता है, बल्कि बाबा भोलेनाथ की कृपा भी बरसनी शुरू हो जाती है।



मान्यता है कि शिव कचहरी बेहद प्रचीन मंदिर है, लेकिन तकरीबन डेढ़ सौ साल पहले इसे अदालत का स्वरूप देकर शिव कचहरी नाम दिया गया। इस अनूठे मंदिर में 286 शिवलिंग है। मंदिर परिसर में थोड़ी ऊंचाई पर अलग स्वरूप में मौजूद शिवलिंग भगवान भोलेनाथ को न्यायाधीश के रूप में प्रदर्शित करता है, जबकि बाकी शिवलिंग वकील के तौर पर विराजमान हैं। न्यायाधीश व वकीलों के रूप में मौजूद शिवलिंग बिल्कुल उसी स्वरूप में स्थित हैं, जैसा आमतौर पर अदालतों में देखने को मिलता है।



यह भी कहा जाता है कि भगवान शिव यहां लोगों को उनके कर्मों के मुताबिक, पुरस्कार व सजा देते हैं। उनसे जुड़े मामलों में अपना फैसला सुनाते हैं और इंसाफ करते हैं। वह कल्याणकारी और दयालु भी हैं, इसलिए अलग -अलग तरीकों से माफी मांगने व गलतियों का प्रायश्चित करने वालों का कल्याण करते हैं और साथ ही उन पर कृपा भी बरसाते हैं।



वैसे तो शिव कचहरी मंदिर में रोज़ाना सैकड़ों की तादाद में श्रद्धालु न्यायाधीश के रूप में विराजमान भोलेबाबा के दर्शन व पूजा -अर्चना के लिए आते हैं, लेकिन यहां सावन महीने में ख़ास आयोजन होते हैं। पूरे सावन महीने यहां मेला लगता है, तो भोलेबाबा के इस सबसे प्रिय महीने में उनके भक्तों की भीड़ से शिव कचहरी गुलजार रहती है। मंदिर में भगवान विष्णु की भी एक मूर्ति रखी हुई है। शिव कचहरी मंदिर के पुजारी पंडित शंभूनाथ दुबे के मुताबिक, भगवान शिव यहां निर्णय व न्याय तो करते ही हैं, साथ ही भक्तों को इच्छित फल देते हुए उनकी सभी मनोकामनाओं की पूर्ति भी करते हैं।



कहा जाता है कि मनुष्य को अपने जीवन में किए गए पुण्य व अच्छे कर्मों का फल तभी हासिल होता है, जब वह जाने -अंजाने में हुए पापों का प्रायश्चित कर चुका होता है। इसी विश्वास के साथ बड़ी संख्या में श्रद्धालु शिव कचहरी मंदिर आते हैं और यहां अपनी गलतियों की माफी मांगने के बाद भगवान शिव से अपने लिए न्याय व कल्याण की प्रार्थना करते हैं। इस मंदिर का संबंध नेपाल के राजघराने से भी है।


यह भी पढ़ें: 100 साल से बन रहा है ये मंदिर, खूबसूरती निहारने को दूर दूर से आते हैं लोग