दरवेश यादव की हत्या के बाद पश्चिमी यूपी की अदालतों में कामकाज ठप, न्यायिक कार्य प्रभावित

मुजफ्फरनगर जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सैयद नसीर हैदर ने कहा कि दरवेश की हत्या निंदनीय है। राज्य बार काउंसिल द्वारा बहिष्कार का आह्वान किया गया है। बागपत, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, सहारनपुर और शामली जिलों में न्यायिक कार्य प्रभावित हुए हैं।

By: एबीपी गंगा | Updated: 13 Jun 2019 04:30 PM
work affected in western up courts after darvesh yadav murder case

मुजफ्फरनगर, एबीपी गंगा। उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की अध्यक्ष की हत्या के खिलाफ वकीलों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया, जिसकी वजह से पश्चिमी उत्तर प्रदेश की अदालतों में कामकाज गुरुवार को ठप हो गया है। मुजफ्फरनगर जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सैयद नसीर हैदर ने कहा कि शोकसभा में वकीलों ने इस घटना की निंदा की। राज्य बार काउंसिल द्वारा बहिष्कार का आह्वान किया गया है। बागपत, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, सहारनपुर और शामली जिलों में न्यायिक कार्य प्रभावित हुए हैं।


साथी वकील ने मारी गोली


बता दें कि दरवेश यादव को उनके साथी वकील ने बुधवार को गोली मार दी थी जिससें मौके पर ही उनकी मौत हो गई थी। इसके बाद हमलावर वकील ने खुद को भी गोली मार ली, उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है। इस घटना से पूरे इलाके भर में सनसनी फैल गई है। आगरा की अधिवक्ता दरवेश यूपी बार काउंसिल की पहली महिला अध्यक्ष चुनी गई थीं।



यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष चुनी गईं थीं दरवेश 


पुलिस ने बताया कि दीवानी परिसर में उनके स्वागत का कार्यक्रम चल रहा था, इस बीच एडवोकेट मनीष शर्मा, दरवेश सिंह के पास पहुंचे और एक के बाद एक तीन राउंड फायरिंग की। दरवेश मौके पर ही गिर गईं और उनकी मौत हो गई, इसके बाद आरोपी मनीष शर्मा ने खुद को भी गोली मार ली। दरवेश और मनीष को अस्पताल ले जाया गया जहां दरवेश को मृत घोषित कर दिया गया और मनीष का इलाज किया जा रहा है। सूचना मिलते ही एडीजी सहित पूरी पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। दो दिन पहले ही दरवेश को यूपी बार काउंसिल का अध्यक्ष बनाया गया था।