लखनऊ: एकता-भाईचारे के साथ मनाई गई बकरीद, मस्जिदों में पढ़ी गई विशेष नमाज

उत्तर प्रदेश में बकरीद का त्यौहार एकता और भाईचारे के साथ मनाया गया। इस मौके पर मस्जिदों और ईदगाह में विशेष नमाज अता की गई। मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक एक एक हिस्सा भारत का है।

By: सचिन बाजपेयी | Updated: 12 Aug 2019 04:16 PM
Namaz offered on occasion of Eid ul adha in lucknow

लखनऊ, शैलेश अरोड़ा। देश भर में सोमवार को ईद-उल-अजहा यानी बकरीद का त्योहार मनाया जा रहा है। लखनऊ की तमाम मस्जिदों और ईदगाहों में इस मौके पर विशेष नमाज पढ़ाई गई। ऐशबाग ईदगाह में मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली तो आसिफी मस्जिद में मौलाना कल्बे जवाद ने नमाज़ पढाई। ऐशबाग ईदगाह में महिलाओं के लिए नमाज़ पढ़ने के अलग इंतज़ाम किये गए थे। शाहनजफ़ इमामबाड़े में शिया-सुन्नी समुदाय ने एक साथ नमाज़ पढ़ी।


बकरीद के मौके पर डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने ऐशबाग ईदगाह पहुंचकर सभी को मुबारकबाद दी। उन्होंने कहा कि बकरीद आपसी भाईचारे और आपसी सौहार्द का संदेश देने वाला पर्व है। ऐशबाग में जहां एक तरफ ईदगाह तो दूसरी तरफ सामने ही रामलीला मैदान है। इस मौके पर मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने बताया की ऐशबाग ईद गाह में लाखों मुसलमानों ने साथ नमाज पढ़ी। आज का ये मौका गंगा जमुनी तहज़ीब की बड़ी अमानत है।


कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 A हटने के बाद पहली बकरीद पर भी मौलाना खालिद रशीद ने बात की। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आवाम इस पर्व को अच्छे माहौल में मनाये और देश की तरक्की में शरीक हो। देश की हुकूमत वहां की आवाम की हिफाज़त करे और विकास की राह पर ले जाये। मौलाना खालिद ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक एक एक हिस्सा भारत का है और बाहरियों को बोलने की इजाज़त नहीं। मौलाना खालिद ने कहा कि जानवर की कुर्बानी करने से पहले अपनी नाजायज़ और गलत चीज़ों से परहेज़ करें। बकरीद के पर्व से कुर्बानी के जरिये देश में 10 हज़ार करोड़ का व्यापार होता जिससे लोगों को रोज़गार मिलता है। इस पर्व से देश के करीब 40 करोड़ गरीबों को कई दिन के लिए खाना मिल जाता है।