लखनऊ: प्रदेश के पहले PPP मॉडल पर बने बस अड्डे पर मिली तमाम खामियां, नाराज हुए एमडी

उत्तर प्रदेश के पहले पीपीपी मॉडल पर आधारित बनाये गए आलम बाग बस अड्डे में यूपीएसआरटीसी के एमडी को बहुत सी कमियां मिली। इसे लेकर वे नाराज हुये। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को खामियां दूर करने को कहा।

By: एबीपी गंगा | Updated: 24 Jul 2019 09:47 AM
First PPP model based bus station in lucknow not up to the marks

लखनऊ, शैलेश अरोड़ा। उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन निगम के एमडी राजशेखर ने प्रदेश के पहले पीपीपी मॉडल पर बने आलमबाग बस अड्डे का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में मौके पर तमाम खामियां मिली, इस पर एमडी ने नाराजगी जताई और अधिकारियों को लिखित चेतावनी भी दी।


किसी बस में मेडिकल किट गायब तो किसी में ट्रैकिंग सिस्टम खराब


राजशेखर जब बस अड्डे पहुंचे तो परिसर में एसी बंद मिला। मॉल और रेस्टोरेन्ट का काम भी अधूरा मिला। एमडी राजशेखर ने बसों का भी निरीक्षण किया। कई बसों में मेडिकल किट गायब मिली तो 20 फीसदी बसों में व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम खराब था। इसके अलावा कई बसों में स्पीड कंट्रोल डिवाइस भी खराब मिले। अधिकारियों ने बताया की सप्लाई करने वाली कंपनी की सेवाएं खराब हैं। इस पर एमडी राजशेखर ने कंपनी को ब्लैक लिस्ट करने के लिए कारण बताओ नोटिस भेजा।



अब 24 घंटे बस अड्डे पर चलेगा एसी


राजशेखर ने बस अड्डे पर सिक्योरिटी सिस्टम को सुधारने के निर्देश दिए साथ ही आलमबाग बस अड्डे पर 24 घंटे एसी चलाने को कहा। अभी 12 से 16 घंटे ही एसी चलता है। निरीक्षण में 5 महीने से पब्लिक इनफार्मेशन सिस्टम 'बूम बैरियर' के खराब होने की बात भी सामने आई। इस पर एमडी ने शालीमार कंपनी को 15 दिन में सिस्टम सही कराने के निर्देश दिए। बस अड्डे की हालत सुधारने के लिए समन्वय समिति का गठन हर महीने बैठक करने को कहा गया। पहली बैठक 31 जुलाई से पहले होगी।


31 जुलाई तक लॉन्ग रूट की सभी बसें फंक्शनल करने के निर्देश


लंबी दूरी की 208 बसों में से सिर्फ 68 ड्राइवर्स का मेडिकल टेस्ट हुआ मिला। इस पर बताया गया कि 31 जुलाई तक सभी का मेडिकल पूरा हो जायेगा। एमडी ने 31 जुलाई तक लॉन्ग रूट की सभी बसों को फंक्शनल करने के निर्देश दिये। सभी ड्राइवर और कंडक्टर को प्रॉपर ड्रेस कोड में रहने के लिए कहा। आलमबाग बस अड्डे से चलने वाली एक हजार पचपन बसों में रोजाना बीस हजार यात्री चलते हैं।