श्रावस्ती: सलाखों के पीछे पहुंचा आदमखोर तेंदुआ, इलाके में फैला रखी थी दहशत

श्रावस्ती जिले में बीते एक माह से आदमखोर तेंदुए का आतंक व्याप्त था। तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजड़े लगाए गए थे। पिंजरे में बंधी बकरी के लालच में आया तेंदुआ कैद हो गया।

By: एबीपी गंगा | Updated: 25 Aug 2019 05:24 PM
Forest Department captured leopard in shravasti

श्रावस्ती, एबीपी गंगा। श्रावस्ती में लगातार बढ़ते आदमखोर तेंदुए के आतंक से रविवार को लोगों को निजात मिल गयी। वन विभाग की टीम ने खूंखार तेंदुए को अपने जाल में फंसा लिया। तेंदुए के पकड़े जाने की खबर सुनकर ग्रामीणों ने राहत की सांस ली। तेंदुए को पिंजरे में देखने के लिए मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा है गई।


मामला श्रावस्ती जिले के सिरसिया थाना के घोलिया बालू गांव का है। ये गांव जंगल से सटा है और यहां पिछले एक महीने ने तेंदुए ने आतंक मचा रखा था। आदमखोर तेंदुआ मवेशियों सहित मासूमों और बुजुर्गों को भी अपना निवाला बना चुका था। तेंदुए के बढ़ते आतंक से ग्रामीणों में हमेशा भय का माहौल बना रहता था तो वहीं, कुछ ग्रामीण गांव से पलायन की तैयारी में थे।



वहीं, वन विभाग भी लगातार तेंदुए की कॉम्बिंग में लगा था। रविवार सुबह तेंदुआ अपना शिकार देख पिंजरे में घुसा और वन विभाग की गिरफ्त में आ गया। तेंदुए के पकड़े जाने की खबर सुनते ही ग्रामीणों के चेहरों पर मुस्कान लौट आयी। वही, वन विभाग तेंदुए को डॉक्टरी परीक्षण के बाद आबादी से अलग छेत्र में छोड़ने की तैयारी में जुटा है।