पुलिस महकमे में फैले भ्रष्टाचार पर सख्त सीएम, चार दारोगा समेत 29 पुलिसकर्मी जबरन रिटायर

कानपुर जोन के 29 पुलिसकर्मियों को जबरन रिटायर कर दिया गया है। सभी पुलिसकर्मियों पर भ्रष्टाचार के आरोप थे।

By: मनीष नेगी | Updated: 11 Jul 2019 03:30 PM
29 police personnel forcibly retired in uttar pradesh

कानपुर, एबीपी गंगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यूपी में पुलिस महकमे की छवि सुधारने में लगे हुए हैं। इसी सिलसिले में भ्रष्ट और दागी पुलिसकर्मियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की गई है। सीएम के आदेश के तहत आईजी मोहित अग्रवाल ने कानपुर जोन में 50 की उम्र पार कर चुके चार दारोगाओं और 25 सिपाहियों को जबरन रिटायर कर दिया है। इस कार्रवाई के बाद पूरे महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। बताया जा रहा है कि पुलिसकर्मियों पर ये अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है। सभी पुलिसकर्मी ओरैया, फतेहगढ़, इटावा, कानपुर देहात और कन्नौज के हैं।


इस कार्रवाई के बाद आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा कि कानपुर जोन में 29 पुलिसकर्मी चिन्हित किये गए हैं। ये पुलिसकर्मी विभाग की छवि को धूमिल कर रहे थे। इनमें से ज्यादातर भ्रष्टाचार में लिप्त पाए गए हैं। इनका आचरण और कार्यशैली भी ठीक नहीं थी। इसी वजह से ऐसे पुलिसकर्मियों को जबरन रिटायर किया गया है। इसके अलावा अन्य पुलिसकर्मियों को भी चेतावनी दी गई है कि अगर कोई भी भ्रष्टाचार में संलिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी कठोर कार्रवाई की जाएगी।


आईजी ने बताया कि कुछ और पुलिसकर्मी भी चिन्हित किए गए हैं और उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि अभी जिनके ऊपर कार्रवाई हुई है उनमें चार दारोगा और 25 सिपाही शामिल हैं।


गौरतलब है कि सीएम योगी ने हाल ही में कानून समीक्षा बैठक के दौरान पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों को पुलिस महकमे की छवि धूमिल करने वाले भ्रष्ट और लापरवाह पुलिसकर्मियों को जबरन सेवानिवृत्त करने का निर्देश दिया था।