नतीजों से पहले शाह की डिनर डिप्लोमेसी, NDA नेताओं को कल खाने पर बुलाया;मोदी भी होंगे साथ

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कल एनडीए नेताओं को डिनर पर बुलाया है। माना जा रहा है कि इस डिनर डिप्लोमेसी के बहाने आगे की रणनीति पर बात होगी।

By: एबीपी गंगा | Updated: 20 May 2019 01:39 PM
Lok Sabha Election 2019 BJP President Amit Shah will host dinner for NDA Leader tomorrow Modi

नई दिल्ली, एबीपी गंगा। लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद एग्जिट पोल के नतीजे इशारा कर रहे हैं कि एक बार फिर केंद्र में एनडीए पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने जा रही है। इस बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 21 मई यानी मंगलवार को एनडीए के सभी नेताओं को डिनर पर बुलाया है। कहा जा रहा है कि इस डिनर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे। सूत्रों की मानें तो इस बैठक में आगे की रणनीति तय की जाएगी। साथ ही, एग्जिट पोल के नतीजों को लेकर चर्चा की जाएगी।


शाह की 'डिनर डिप्लोमेसी'


सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी अध्यक्ष की तरफ से एनडीए नेताओं को डिनर पर बुलाना सिर्फ एक बहाना है, बल्कि इस डिनर डिप्लोमेसी के बाहने आगे की रणनीति पर बात होगी।


7 चरणों में हुए लोकसभा चुनाव


बता दें कि 7 चरणों में हुए लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से शुरू होकर 19 मई को खत्म हुए। वोटों की गिनती और चुनाव परिणाम 23 मई को घोषित होंगे। लोकसभा में कुल 542 र्सीटें हैं। बहुमत के लिए 272 सीटें चाहिए होती है।


एग्जिट पोल में बहुमत के आंकड़े के पार NDA


एग्जिट पोल के आंकड़ों के मुताबिक, 542 में से एनडीए के खाते में 277 सीटें आ रही हैं, जो कि बहुमत के आंकड़ों के पार है। वहीं, यूपीए के खाते में 130 सीटें और अन्य के खाते में 135 सीटें आने का अनुमान जताया जा रहा है।


बीजेपी नीत एनडीए में कौन-कौन पार्टियां शामिल ?




  • बीजेपी के गठबंधन में 40 के करीब छोटी-बड़ी पार्टियां हैं।

  • बीजेपी की अहम सहयोगियों में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू है। हालांकि, 2014 लोकसभा चुनाव में जेडीयू बीजेपी अलग-अलग चुनाव लड़ी थी।

  • दूसरी सबकी बड़ी सहयोगी शिवसेना है। 2014 में शिवसेना ने बीजेपी के साथ मिलकर 18 सीटें जीती थी।

  • इस बार के दक्षिण भारत से AIADMK बीजेपी के साथ है। 2014 में AIADMK ने 36 सीटें जीती थी। इस बार बीजेपी, एआईएडीएमके, पीएमके, डीएमडीके के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है।

  • पुरानी सहयोगी सुखबीर सिंह बादल की पार्टी अकाली दल भी बीजेपी के साथ है।

  • रामविलास पासवान की लोजपा 2014 की तरह इस बार भी बीजेपी के साथ है।

  • अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल भी बीजेपी के साथ।

  • प्रफुल्ल महंता की पार्टी असम गण परिषद बीजेपी के खेमे में है।