BJP से बर्खास्त 'चैंपियन', शस्त्र लाइसेंस होंगे निरस्त; CISF सुरक्षा भी होगी वापस

उत्तराखंड के विवादित विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन का तमंचे पर डिस्को वाला वीडियो वायरल होने के बाद उनके परिवार के सभी शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए जाने की तैयारी है। बीजेपी पहले ही उन्हें स्थाई निलंबित कर चुकी है। अब एक हफ्ते के भीतर चैंपियन को दी गई सीआईएसएफ की सुरक्षा भी हट सकती है।

By: एबीपी गंगा | Updated: 12 Jul 2019 09:11 AM
BJP controversial MLA Kunwar kunwar pranav singh champion armed license will be cancelled CISF security will also be taken back

देहरादून, एबीपी गंगा। उत्तराखंड के विवादित विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन पर एक और गाज गिरी है। बीजेपी के निलंबित विधायक चैंपियन के सभी शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए जाएंगे। इतना ही नहीं उनकी सुरक्षा की वापस होगी। इसको लेकर हरिद्वार पुलिस ने लाइसेंस रद्द करने की रिपोर्ट हरिद्वार डीएम को भेजी है। जिसके तहत चैंपियन और उनके परिवार के सदस्यों के नाम से जारी सभी शस्त्र लाइसेंस निरस्त होंगे।


चैंपियन के परिवार में 9 शस्त्र लाइसेंस


बता दें कि विधायक चैंपियन के परिवार में 9 शस्त्र लाइसेंस हैं। जिसमें चैंपियन के नाम तीन, उनकी पत्नी और बेटे के नाम 3-3 लाइसेंस हैं। दरअसल, 10 जुलाई को विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन का हथियारों के साथ शराब के नशे में धुत डांस करते एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआथा। जिसके बाद पुलिस मुख्यालय ने हरिद्वार पुलिस को लाइसेंस रद्द करने के निर्देश जारी किए थे। इस बीच ये भी बात सामने आई है कि एक हफ्ते के भीतर चैंपियन को दी गई सीआईएसएफ की सुरक्षा भी हट सकती है।



बीजेपी ने भी चैंपियन को किया स्थाई निलंबित


गौरतलब है कि तमंचे पर डिस्को वाला वीडियो वायरस होने के बाद बीजेपी ने भी अपने विवादित विधायक पर सख्त कार्रवाई करते हुए चैंपियन को पार्टी से स्थाई निलंबित कर दिया है। इससे पहले पार्टी ने उन्हें तीन महीने के लिए निलंबित किया था।



चैंपियन बीजेपी से बर्खास्त

इस बीच नोटिस का समय पूरा होने से पहले ही देर रात्रि में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने विवादित विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन को बर्खास्त कर दिया गया है। प्रदेश नेतृत्व की सिफारिश पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मुहर लगाई है। बता दें कि चैंपियन हरिद्वार की खानपुर सीट से विधायक हैं।

तमंचे पर डिस्को वाले वीडियो के बाद हुई कार्रवाई 


बता दें कि चैंपियन का वीडियो वायरल होने के बाद उत्तराखंड प्रदेश प्रभारी व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याद जाजू ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा था कि भारतीय जनता पार्टी एक अनुशासित व सिद्धांतों पर चलने वाली पार्टी है। हमारे कार्यकर्ता, पार्टी के पदाधिकारी और पार्टी के जनप्रतिनिधि इनका व्यवहार समाज में कैसा हो, इसके लिए पार्टी की अपनी एक आचार संहिता है। किसी भी जनप्रतिनिथि का गैर जिम्मेदाराना व्यवहार पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। इसको लेकर पार्टी हाईकमान को उनके स्थाई निलंबन को लेकर प्रस्ताव भी भेजा था, जिसपर राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मुहर लगा दी है।