अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व प्रधान की हत्या...चुनावी रंजिश या साजिश?

अमेठी में स्मृति ईरानी की जीत के जश्न के बीच उनके करीबी की हत्या का मामला सामने आया है। जहां पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। परिवारवालों ने इसे चुनावी रंजिश करार दिया है।

By: एबीपी गंगा | Updated: 26 May 2019 03:41 PM
Smriti irani close aide former village head surendra singh shot dead in amethi

अमेठी, एबीपी गंगा। लोकसभा चुनाव 2019 में गांधी परिवार के गढ़ अमेठी में बीजेपी की शानदार जीत के जश्न के बीच नवनिर्वाचित संसाद स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व प्रधान की हत्या का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि शनिवार देर रात स्मृति के करीबी पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई। थाना क्षेत्र के बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की हत्या बदमाशों ने उस वक्त की, जब वे अपने घर के बाहर सो रहे थे।


मामले का सीएम ने लिया संज्ञान


इस बीच पूर्व प्रधान की हत्या मामले का सीएम योगी ने संज्ञान लिया है। सीएम ने डीजीपी ओपी सिंह को जल्द खुलासे के निर्देश दिए हैं। सीएम ने 12 घंटे के अंदर हत्यारों की गिरफ्तारी का डीजीपी को अल्टीमेटम दिया है। इस बीच आईजी लखनऊ एसके भगत अमेठी के लिए रवाना किए गए हैं।


स्मृति ईरानी को चुनाव प्रचार के दौरान पहुंचाया था फायदा


गोली लगने से घायल पूर्व प्रधान को लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर किया गया, जहां रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। परिवारवालों ने इस हत्या को चुनावी रंजिश करार दिया है। दरअसल, लोकसभा चुनाव 2019 में सुरेंद्र सिंह ने बीजेपी प्रत्याशी स्मृति ईरानी के चुनाव प्रचार में बड़ा रोल अदा किया था। उनका प्रभाव कई गांव में था, जिसका फायदा स्मृति ईरानी को चुनाव प्रचार के दौरान मिला।



जानकारी के मुताबिक, बाइक सवार अज्ञात बदामशों ने घर के बाहर सोते समय सुरेंद्र सिंह पर ताबड़तोड़ फायरिंग की, जिसमें वे बुरी तरह से घायल हो गए। गंभीर हालत में उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ ले जाते वक्त ही रास्ते में उन्होंने दम तोड़ दिया। इस हत्या के बाद से मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है।


इसी गांव मे स्मृति ने बांटे थे जूते-चप्पल


बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान इसी गांव में स्मृति ईरानी ने जूते-चप्पल बांटे थे। जिसपर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा था कि जूता बांटकर अमेठी की जनता की बेज्जती की है। अपमान किया है। साथ ही , इसी गांव को गोवा के स्वर्गीय पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने लिया गोद ले रखा था।



चुनावी रंजिश के कारण हुई हत्या : मृतक का भाई


आपको बताते चले मृतक पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह के भाई धीरेंद्र का कहना है कि उनके भाई की किसी से दुश्मनी नहीं थी, ये घटना चुनावी रंजिश के कारण हुई है।






पुलिस ने शुरू की छापेमारी

इस बीच घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने बदमाशों की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है। पूर्व प्रधान की हत्या से न सिर्फ बरौलिया गांव बल्कि पूरे जिले में तनाव है। जिसके चलते गांव में भारी पुलिस बल तैनात है।

हत्यारों का बख्शा नहीं जाएगा : केशव प्रसाद मौर्य

सुरेंद्र सिंह की हत्या पर यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, 'अमेठी में हुई कार्यकर्ता की हत्या से दुःखी हूं, मैं उसे विनम्र श्रद्धांजलि देता हूं। हत्यारों को बख्शा नहीं जाएगा, जल्द ही सजा मिलेगी।'