सपा के कद्दावर नेता गायत्री प्र‍जापति के घर CBI की छापेमारी,  कम्प्यूटर सील, अहम कागजात बरामद

अमेठ में सीबीआई की 14 सदस्यों की टीम ने गायत्री के घर से सघन तलाशी लेते हुए विभिन्न कागजात व अभिलेख बरामद किए हैं। उनके कार्यालय का कम्प्यूटर भी सील कर दिया गया है।

By: एबीपी गंगा | Updated: 12 Jun 2019 06:46 PM
cbi raids in former up Minister gayatri prajapati house

अमेठी, एबीपी गंगा। गैंगरेप के आरोप में जेल में बंद पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। गायत्री प्रसाद प्रजापति के घर सीबीआई ने छापा मारा है। उत्तर प्रदेश में सपा सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के अमेठी में आवास विकास कॉलोनी स्थित आवास और सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के हमीरपुर स्थित आवास समेत उत्तर प्रदेश और दिल्ली के 22 स्थानों पर सीबीआई टीम ने छापेमारी की कार्रवाई की है। बताया जा रहा है कि सीबीआई ने यह कार्रवाई खनन घोटाले को लेकर की है, जिसमें गायत्री प्रजापति के 3 ठिकानों पर छापे मारे गए हैं। अमेठ में सीबीआई की 14 सदस्यों की टीम ने गायत्री के घर से सघन तलाशी लेते हुए विभिन्न कागजात व अभिलेख बरामद किए हैं। उनके कार्यालय का कम्प्यूटर भी सील कर दिया गया है।


नहीं दी गई सूचना


बुधवार की सुबह ग्यारह बजे के करीब अमेठी स्थित आवास विकास कॉलोनी के प्रजापति के आवास पर सीबीआई टीम ने छापेमारी की। शुरू में तो किसी को पता ही नहीं चला कि आखिर हो क्या रहा है। सीबीआई दल ने छापेमारी के संबंध में स्थानीय पुलिस और प्रशासन को भी कोई सूचना नहीं दी थी। सीबीआई ने अपने साथ गायत्री प्रसाद प्रजापति के भतीजे सुरेंद्र प्रजापति को ले रखा था। सुरेंद्र ने ही सारे कमरों और अलमारियों की चाबी सीबीआई को उपलब्ध कराईं। सीबीआई के अधिकारियों ने विभिन्न कमरों में जाकर के अलमारियों से कागजात व अन्य अभिलेख जप्त कर लिए हैं।  प्रजापति को 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल सिंह यादव के साथ खटपट के दौरान अपनी कैबिनेट से हटा दिया था, बाद में उन्हें फिर से मंत्री बना दिया गया था।


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिए जांच के आदेश


समाजवादी पार्टी की सरकार में अवैध खनन को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2016 में यूपी में अवैध खनन की जांच के आदेश दिए थे। यूपी के सात प्रमुख जिलों में अवैध खनन की शिकायत इलाहाबाद कोर्ट को मिली थी। उस दौरान फतेहपुर, देवरिया, शामली, कौशांबी, सहारनपुर, सिद्धार्थनगर, हमीरपुर में अवैध खनन का मामला सामने आया था। हमीरपुर मामले में दो जनवरी, 2019 को सीबीआई के डिप्टी एसपी केके शर्मा ने केस दर्ज कराया था। इसी केस में 5 जनवरी को सीबीआई ने आइएएस बी. चंद्रकला के लखनऊ स्थित फ्लैट सहित 14 स्थानों पर छापेमारी की थी। ये छापेमारी कानपुर, लखनऊ, हमीरपुर, जालौन, नोएडा में भी हुई थी।


सपा सरकार में रहे ताकतवर मंत्री


बता दें कि अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी सरकार में ताकतवर मंत्री रहे और गत 15 मार्च 2017 को बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। गायत्री प्रजापति इन दिनों लखनऊ की गोसाईगंज स्थित जिला जेल में सामान्य कैदियों की तरह बंद है। वह एक कमरे में एक दर्जन अन्य कैदियों के साथ रह रहे हैं और एक कंबल पर जमीन में ही सोते है और जेल से मिलने वाला खाना ही खाते हैं।



दुष्कर्म का आरोप


गौरतलब है कि जनवरी 2017 में, एक महिला ने आरोप लगाया था कि प्रजापति (तत्कालीन मंत्री) ने उसे और उसकी बेटी को खनन का ठेका देने के बहाने अपने आवास पर बुलाया था और फिर उन्होंने और उनके लोगों ने दोनों के साथ दुष्कर्म किया था।