अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में दो बच्चे, डिलीवरी में हुआ एक... जानिए- क्या है माजरा

अलीगढ़ के एक अस्पताल में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां महिला को डिलीवरी के बाद एक ही बेटा हुआ है जबकि उसकी अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में जुड़वां बच्चों की पुष्टि थी।

By: एबीपी गंगा | Updated: 11 Jun 2019 03:04 PM
woman gives birth one child but ultrasound reoprt shows twins family makes uproar

अलीगढ़, एबीपी गंगा। जिले के अस्पताल में कुछ ऐसा हुआ है जिसके बाद अस्पताल में इलाज के वक्त आपका भरोसा डगमगाने लगेगा। कार्सी क्षेत्र के हैवतपुर गांव की संगीता के साथ एक ऐसी घटना हुई जिसके बारे में उसने सपने में भी नहीं सोचा होगा। दरअसल, जिले के मोहनलाल गौतम जिला महिला अस्पताल में डिलीवरी के लिए आई संगीता सकुशल मां तो बनी, लेकिन उसे प्रसव के दौरान एक ही बच्चा हुआ। हैरानी वाली बात ये है कि संगीता की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में दो बच्चे दिखाई दे रहे हैं, लेकिन जब डिलीवरी के बाद उसे एक ही बच्चा हुआ तो उसके परिवारवाले भी हैरान रह गए। वहीं, अपने घर में दो बच्चों का इंतजार कर रहे संगीता के परिजनों को जब इसका पता लगा तो उन्होंने जमकर हंगामा मचाया।


सतेंद्र सिंह ने बताया कि उन्होंने पं. दीनदयाल संयुक्त चिकित्सालय में अपनी पत्नी संगीता का अल्ट्रासाउंड कराया था। खुद रेडियोलॉजिस्ट ने भी दो बच्चे होने की बात कही थी। परिवारवाले भी जुड़वा बच्चों की खबर के बाद बेहद खुश थे। सोमवार को संगीता को प्रसव पीड़ा होने के बाद उसे अस्पताल लाया गया। थोड़ी देर बाद उसकी डिलीवरी भी कर दी गई, जिसमें उसे एक बेटा हुआ। परिवारवालों को अब इंतजार था दूसरे बच्चे का। काफी समय बाद भी जब दूसरे बच्चे ने जन्म नहीं लिया तो परिजनों को चिंता हुई। परिजनों ने पूछा तो डॉक्टरों ने साफ कह दिया एक ही बच्चा पैदा हुआ है, जुड़वा नहीं हैं। डॉक्टरों का दावा सुनकर संगीता के घरवाले हैरान रह गए और उन्होंने अल्ट्रासाउंड की सारी रिपोर्ट दिखाई। हालांकि, डॉक्टरों ने अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट को ही फर्जी करार दे दिया। डॉक्टरों के झूठे दावे के बाद परिजनों ने काफी हंगामा किया।


संगीता के घरवालों का आरोप है कि नर्स व ड्यूटी पर तैनात डॉक्टरों ने उन्हें डिलीवरी रूम से बाहर कर दिया और खुद ही संगीता को वार्ड में शिफ्ट कराया। उन्होंने अस्पताल के डॉक्टरों व स्टाफ पर एक बच्चे को गायब करने का आरोप लगाया है। मामले में उन्होंने बन्नादेवी थाने में शिकायत दर्ज कराई है। वहीं, बात जब सीएमओ के पास पहुंची तो मामले में सिर्फ जांच कमेटी गठित करने की बात कहकर खानापूर्ति कर दी गई। काफी हंगामे के बाद जब पुलिस पहुंची तो मामले की तफ्तीश शुरू कर दी।