डॉक्टर की लापरवाही महिला को पड़ी भारी, ऑपरेशन के दौरान काट दी गुदा नली

सरकारी अस्पताल का एक चौकाने वाला मामला सामने आया। बस्ती में एक महिला अस्पताल में डिलेवरी के दैरान डॉक्टर ने गुदा नली ही काट दी और बिना बताए तीन दिन तक इलाज करते रहे।

By: एबीपी गंगा | Updated: 27 May 2019 06:14 PM
 Doctor's negligence to the woman is heavy, cut off the anus in the operation

एबीपी गंगा, सरकारी अस्पतालों में बेहतर इलाज के सरकारी दावों की पोल खोलता एक चौकाने वाला मामला सामने आया। बस्ती में एक महिला अस्पताल में डिलेवरी के दैरान डॉक्टर अनिता वर्मा ने प्रसूता की गुदा नली ही काट दी और बिना बताए तीन दिन तक इलाज करते रहे। परिजनों का आरोप हैं कि जब महिला की हालत बिगडने लगी तो आनन फानन में उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। जब वो घर ले कर पहुंचे तो महिला की हालत और भी खराब हो गयी। इसके बाद परिजन उस महिला को लेकर सीएचसी लेकर जा पहुचे। जहां से डॉक्टरों ने लखनऊ मेडिकल कालेज भेज दिया। वही परिजनों ने इसकी शिकायत डीएम राजशेखर से की जिसके बाद डीएम के निर्देश पर सीएमएस ए के सिंह ने तीन डॉक्टरों की टीम बनाकर जांच के आदेश दे दिए हैं।


क्या है पूरा मामला
दरअसल जनपद के थाना लालगंज क्षेत्र के गांव पृथ्वीपुर निवासी प्रमोद कुमार ने महिला अस्पताल की डॉक्टर अनिता वर्मा पर आरोप लगाते हुए कहा कि '21 मार्च को उसने अपनी गर्भवती पत्नी इन्द्रमती को महिला अस्पताल में भर्ती कराया था। प्रमोद ने बताया कि 22 मार्च को उसकी पत्नी ने बच्चे को जन्म दिया। महिला के पति ने आरोप लगाया कि उसकी पत्नी का इलाज करते समय डॉक्टर अनिता वर्मा और स्टाफ की लापरवाही की जिस कारण पत्नी की गुदा नली कट गई। इतना ही नही इसकी सूचना भी तत्काल नही दी गयी। इस दौरान लगातार प्रसूता का रक्त स्राव होता रहा।


पीड़िता के पति ने आरोप लगाया कि चार घंटे बाद घाव की सिलाई की गई। हालांकि इससे कोई फायदा नही हुआ। इस कारण पीड़िता शौच करने में असमर्थ हो गयी। प्रमोद ने बताया कि इसी हालत में उसकी पत्नी को तीन दिन अस्पताल में रखा गया, उसके बाद डिस्चार्ज किया गया। घर पहुचने पर पत्नी को असहनीय पीड़ा होने लगी। जिस पर उसे बगही स्वस्थ केंद्र ले जाया गया जहां डॉक्टर ने बताया कि इनकी लैट्रिन की नली फट गई है। डॉक्टर ने वहां से तुरन्त लखनऊ मेडिकल कालेज रेफर कर दिया। जहां उसका इलाज चल रहा है। पीड़िता के पति ने इस बाबत डीएम, मुख्य चिकित्साधिकारी को पत्र लिखकर शिकायत की। वही इस बाबत जब महिला अस्पताल के सीएमएस ए के सिंह से बात की गई। तो उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में आने के बाद तुरंत तीन डॉक्टरों की टीम बना दी गयी है जो जांच करेगी। उन्होंने कहा कि जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ शख्त कार्रवाई की जाएगी।