फर्जी है बीजेपी विधायक की बेटी की शादी का सर्टिफिकेट, मंदिर के महंत ने किया खुलासा

बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी की शादी के सर्टिफिकेट को लेकर राम जानकी मंदिर के महंत ने खुलासा किया है।

By: मनीष नेगी | Updated: 11 Jul 2019 04:41 PM
prayagraj temple mahant said sakshi marriage certificate is fake

प्रयागराज, एबीपी गंगा। बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी की दलित युवक के साथ हुई शादी के मामले ने नया मोड़ ले लिया है। दरअसल, साक्षी और उसके प्रेमी अजितेश की शादी का सर्टिफिकेट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस सर्टिफिकेट के मुताबिक, साक्षी और अजितेश की शादी प्रयागराज के बेगम सराय इलाके में राम जानकी मंदिर में हुई है। हालांकि, मंदिर के महंत ने इस मंदिर में शादी से इन्कार किया है।


राम जानकी मंदिर के महंत परशुराम सिंह के मुताबिक, उनके यहां घरवालों की सहमति के बिना इस तरह से शादी कराई ही नहीं जाती। महंत परशुराम सिंह का तो यह भी दावा है कि उनके मंदिर से इस तरह के सर्टिफिकेट भी जारी नहीं किये जाते हैं। सर्टिफिकेट पर जिस विश्वपति शुक्ल का नाम लिखा है, मंदिर से जुड़े लोग भी उससे अनजान हैं।


इलाहाबाद हाईकोर्ट में लगाई गुहार
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने साक्षी और उसके पति को फौरी तौर पर कोई राहत नहीं दी है। अदालत ने साक्षी और उसके पति अजितेश को 15 जुलाई को कोर्ट में पेश होने को कहा है। अदालत में साक्षी के वकील ने तमाम दलीलें पेश करते हुए सुरक्षा मुहैया कराए जाने का आदेश दिए जाने की गुहार लगाई, लेकिन अदालत ने फौरी तौर पर कोई राहत नहीं देते हुए 15 जुलाई की तारीख तय कर दी है। साक्षी और उसके पति अजितेश को पंद्रह जुलाई को कोर्ट में पेश होकर अपनी बात रखनी होगी।


उनकी दलीलों से संतुष्ट होने के बाद ही अदालत इस मामले में कोई आदेश जारी करेगा। मामले की सुनवाई आज जस्टिस वाई के श्रीवास्तव की बेंच में हुई। साक्षी ने अपनी अर्जी में यूपी सरकार, बरेली के एसपी और कैंट थाने के एसएचओ के साथ ही अपने पिता व बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल को भी पक्षकार बनाया है।